Animal cruelty is the biggest problem on earth we should solve this problem

भारत हो या फिर पूरी दुनिया ऐसा लग रहा है की हर जगह पर इंसानों का कब्ज़ा हो चुका है चाहे वो कोई भी जगह हो जंगल या शहर ऐसी कोई भी जगह नहीं बची जहाँ जानवर भी चैन की सांस ले सके वैसे तो कल world animals protection day भी था लेकिन क्या हम इंसान कभी जानवरों को भी सही जगह दे सके लेकिन आज हम बात करेंगे कुछ topics पर की आखिर भारत मे जानवरों को इतना प्रताड़ित किया जाता है वैसे तो हम पूरे विश्व की बात कर रहें है पर भारत को को इसका केंद्र मानते हुए आज हम बात करेंगे 


जंगलो को काट देना 


आखिर हम जंगल बचाने की बात करते है पर सच तो ये की हर साल हजारों की संख्या मे जंगल को काटा जा रहा है और ये ऐसा की कोई आपके घर को उखाड़ फेंके तो आप क्या करोगे ?  आप सीधे उससे लड़ने लगेंगे लेकिन आप उन बेसहारा जानवरों के दर्द को भी तो समझ ले की उनका घर यानि की जंगल जब बेशर्म इंसान चंद पैसो की वजह से हजारों जंगल काट देते है  है और प्रकृति की निर्मम हत्या करदेते है और प्रशासन भी आराम से सोता है

PETA की कामचोरी 


दोस्तों अपने जानवरों के लिए एक ngo का नाम तो सुना ही होगा जो है PETA यहाँ पर हम सीधा नाम बता रहें क्यूंकि इस संस्थान के पास जो जिम्मेदारी है वो बहुत बड़ी है लेकिन अपने social media पर video डालने से फुरसत मिले तो तोये काम करें जी हा हम ये आपको बता दे की peta को बहुत donations मिलती है लेकिन हर बार peta सवालों के घेरे मे ही रहती है


एक खास पर्व पर जानवरों का नरसंहार 

Animal cruelty is the biggest problem on earth we should solve this problem


अपने देखा होगा भारत मे कई बड़े बड़े अभिनेता, दिग्गज खिलाड़ी व नेता आदि tweet करके दिवाली या होली पर लिखते है की Please guys जानवरों पर colour मत फेंकना और पटाके से वो डर जायेंगे लेकिन एक खास वर्ग के आते ही सब उस पर्व पर बधाईया देते है पर जहाँ पर जानवरों को काटा जाता है मारा जाता है अब समझ भी गए होगये की किसतरह का दोगले पन को बढ़ावा दिया जाता है और ऐसे पर्व PETA india की  कुछ बोलने पर हिम्मत ही नहीं होती ये राक्षस राज नहीं तो क्या है लेकिन हद तो तब होती है जब आखिर कोई भी व्यक्ति इन जानवरों के नरसंहार को कुछ नहीं बोलता ऐसा लगा रहा है की राक्षस राज बस यही है

जानवरों को पालना एक अच्छी बात 


भारत ही नहीं पूरी दुनिया में लोग जानवरों को बहुत ज्यादा प्यार भी करते हैं एक तरफ जब लोग जानवरों को बहुत पीटते हैं मारते हैं तो दूसरी तरफ लोग जानवरों को बहुत प्यार करते हैं इनमें से सबसे ज्यादा प्रिय जानवर कुत्ता बिल्ली गाय हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जो बाकी जानवर है उनको प्रताड़ित किया जाए और उनको मारा पीटा जाए यह भी बिल्कुल गलत है लेकिन यह जानवर लोग अपने घर में पालते हैं अब ऐसे में कुछ लोगों का कहना है कि घर में कुत्ता बिल्ली पालना अच्छी आदत नहीं है लेकिन आपको बता दें कि कोई भी रिपोर्ट आपको यह नहीं कहती है कि कुत्ता बिल्ली को पालना या फिर यूं कहें कि किसी जानवर को प्यार करना पालना अपने घर में रखना गलत है और ऐसे में बहुत बुद्धिजीवी आते हैं जो अपना ज्ञान देते हैं कि ऐसा नहीं पड़ना चाहिए वगैरा-वगैरा लेकिन कोई भी रिपोर्ट इसका खंडन नहीं करती हम आपको बता दें कि जानवरों को पालना भारत में बहुत ही प्राचीन सभ्यता है लेकिन हाल ही में लोग इस सभ्यता को भूल गए हैं और जानवरों को मारने पीटने का एक नया प्रचलन को आगे बढ़ा रहे हैं हाल ही में हुए केरल में हादसे में जिसमें जानबूझकर हथनी को मार डाला गया उसके बाद आप सबको पता होगा कि ना तो कोई ढंग की कानून कार्रवाई हुई और ना ही कोई और सजा ऐसे में भारत का कानून भी इन जानवरों को न्याय दिलाने के लिए असमर्थ है भारत में कभी इस तरह के कानून पर काम ही नहीं किया गया हालांकि ऐसा नहीं है कि जानवरों की सुरक्षा के लिए कानून बनाए नहीं गए बनाए गए हैं लेकिन उनका पालन सख्ती से और नियमों का पालन किया जाता है


हमारी राय 

Animal cruelty is the biggest problem on earth we should solve this problem


 अब इस विषय में हम आप को अपनी राय बताते हैं और बताते हैं कि आखिर हम क्या चाहते हैं हम चाहते हैं कि इस दुनिया में कोई भी जीव असहाय ना रहें और शायद यही कारण है कि हमने आजे मुद्दा उठाएं को कि कोई भी मीडिया यह मुद्दा कभी नहीं उठाती है जब तक कोई केस ना हो और अगर आपको कोई ऐसा जानवर दिखता है जो बेसहारा है तो मुझे लगता है कि आप सब के पास इतना तो खाना होगा ही कि आप उसे थोड़ा सा खिला दें जिससे कि उसकी भूख मिट जाए हम कई बार देखते हैं लोग सामान लेने जाते हैं तो कई बार जानवर दिखते हैं लेकिन उनके पास पैसे होते हुए भी वह बेसहारा जानवरों को नहीं खिलाते लेकिन हम आपसे कहना चाहते हैं कि आपको भी ऐसे काम नहीं करने हैं आपको हमेशा जानवरों को खिलाना है और याद रखना है अगर आप खिलाने की कुब्बत नहीं रखते तो आप मारने की भी हैसियत नहीं रखिए क्योंकि लोग जानवरों को मारते तो बहुत हैं लेकिन जब खिलाने की बारी आती है तो हमेशा की तरह गायब हो जाते हैं यही नहीं हम आपको एक और बात बताते हैं इंसान इतना खुदगर्ज है कि वह जानवरों को सर्कस में ना चाहता है और नचाने के साथ-साथ उस पर चाबुक से वार भी करता है और हंटर से उसको मारता है कि वह जानवर सर्कस दिखाएं और उसको पैसे मिले यही नहीं कई बड़े-बड़े लोग हाथियों को बंधक बनाकर रखते हैं एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में एक विशेष जगह पर 15 100 से ज्यादा हाथी बंधक बने हुए हैं लेकिन इन पर कोई भी ध्यान नहीं देता यही नहीं आपको बताने भारत का जो प्रदर्शन चित्र है वह हाथी ही है जैसे कि चीन का ड्रैगन है और अमेरिका का ईगल  है उसी तरह हाथी है भारत का