Tahir Hussain confess that he want to teach lessons to hindus

Tahir Hussain in Delhi riots 


जैसा की आप सबको पता है कि दिल्ली दंगों का मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन का नाम सबसे ज्यादा आ रहा था लेकिन अब एक ऐसी खबर आ रही है इसके बाद अब यह पक्का हो गया है कि इस दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन का एक बहुत बड़ा हाथ था आज हम इसी के बारे में पूरी तरह से बात करेंगे और जानेंगे कि आखिर किस किस तरह स्नेह दिल्ली दंगों को अंजाम दिया लेकिन उससे पहले Prodates को मिली जानकारी के अनुसार हम आपको बता दें कि ताहिर हुसैन ने दिल्ली पुलिस के सामने यह मान लिया है कि उसने हिंदुओं को सबक सिखाने के लिए ऐसा कदम उठाया
और उसने ऐसे कई खुलासे किए हैं जिसके बाद कुछ खास वर्ग के लोगों का सच सामने आ गया है आइए जानते हैं इसके बारे में


Tahir Hussain confess in front of Delhi Police


 इस बात इस खबर में जो सबसे जरूरी बात है वह यह है कि आखिर ताहिर हुसैन ने दिल्ली पुलिस के सामने क्या कहा तो हम बता दे आपको कि ताहिर हुसैन ने यह कहा है कि मैं सी ए ए और राम मंदिर और कश्मीर में धारा 370 हटने से बहुत ज्यादा गुस्से में था लेकिन गुस्सा तब और बढ़ गया जब यह तीनों ही कानून पास हो गए और मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आ गया था ताहिर हुसैन ने कहा कि वह पानी सर से ऊपर जा चुका था और यही कारण है कि मैंने दिल्ली दंगों की साजिश रची मेरे पास पॉलीटिकल पावर राजनीतिक शक्तियां और पैसे की कमी नहीं थी तो ऐसे में मैंने अपने काम का बदला लेने के लिए यह सब किया मैंने छतों पर तेजाब इंटे पत्थर जैसे जमा करके और यह कुछ दिनों क्या प्लान था और हम इसको करने में कामयाब भी हो गए और हमने नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन किया और बनाकर इस घटना को अंजाम दिया यही नहीं ताहिर हुसैन ने ऐसे कई बड़े खुलासे कर दिए हैं जिसके बाद इस देश के ऊपर एक बहुत बड़ा संकट मंडरा रहा है हम आपको बता दें कि दिल्ली दंगे के तार कई जगहों से जुड़े दिल्ली दंगों के तार ऐसा बताया जा रहा है कि कई विदेशी फंडिंग भी शामिल है और अगर ऐसा होता है तो यह वाकई में बहुत सोचने वाली बात है क्योंकि ऐसा होना किसी भी देश की धर्मनिरपेक्षता पर बहुत बड़ा संकट है आपको बता दें कि भारत में कुछ एक खास वर्ग है जो अभी भी भारत को पाकिस्तान में तब्दील करने की रचनाएं और यह बात हम नहीं कह रहे हैं यह उसमें शामिल कुछ गैंग के लोग कह रहे हैं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ताहिर हुसैन भी उनके अंग में शामिल है यह भारत के उत्तरी टुकड़े करने की बात करते हैं असम को भारत से अलग करने की बात करते हैं लेकिन सबसे बड़ी जो भारत की दुर्भाग्य है कि 


Misfortune of India


यह भारत में रहते हैं और भारत का ही खाते हैं लेकिन फिर भी भारत के खिलाफ ही पूरी दुनिया में गाना गाते हैं यह भारत को यह भारत को पूरी तरह अलग करना चाहते हैं और हमारे ही देश की कुछ बहुत बड़े बुद्धिजीवी दरबारी पत्रकार जो बहुत अपने आप को देश का और गरीबों का मसीहा बताते हैं लेकिन उनको ऐसी चीजों में कोई भी बात करने की दिलचस्पी नहीं है और हो भी क्यों ना क्योंकि वह खुद जानते हैं कि टुकड़े टुकड़े गैंग का हिस्सा है आपको हम थोड़ा और बताते हैं कि भारत में एक खास वर्ग है जो कहीं ना कहीं भारत को पूरी तरह से एक खास वर्ग के लिए ही एक राष्ट्र बनाना चाहता है और ऐसे कई खुलासे हुए यह कोई निराधार बात नहीं है ऐसे कई बार खुलासे हुए हैं जो ऐसी दावों को पुष्टि में तब्दील करते हैं ताहिर हुसैन की बात करते हैं तो ताहिर हुसैन ने दिल्ली दंगों की साजिश रची गई नहीं अंकित शर्मा को भी मारने में उसी का खास था और यह सब उसने खुद कबूल नामा किया है लेकिन यहां पर सोचने वाली बात यह है कि हमारे देश में से कितने ताहिर हुसैन होंगे जो ऐसी साजिश को अंजाम देने के लिए बैठे हुए हैं और आज हम बताएंगे कि ऐसे लोगों को पहचाने कैसे क्योंकि यह लोग एक खास विचारधारा के होते हैं और इन को पहचानना बहुत ही आसान होता है उनकी पहचान आप ये समझलो कि वो देश में धर्म निरपेछता को ख़त्म करना चाहते है और आप ये समझ लीजिये कि ये बात आपको कोई न्यूज़ ब्लॉग नहीं बताएगा पर Prodates एक ऐसा ब्लॉग जहाँ खबरों पर एक अलग ideology को फॉलो करता है |